2019

The scientific name of Tiger (the national animal) is Panthera Tigris. Tiger is the national animal of India. It has been declared a national animal due to its royal appearance. It is the Asian carnivore, whose scientific names of Tiger is Panthera Tigris, which falls under the category of mammals because it gives birth like humans. It is the largest living member under the family cats. It is a very powerful animal, which is very famous because of its charm, strength, and agility. 


The Scientific name of Tiger【Panthera Tigris】| Indian National Animal
The Scientific name of Tiger【Panthera Tigris】| Indian National Animal

The Scientific name of Tiger - Panthera Tigris

The tiger is the national animal, which comes under the family cat. The scientific name of Tiger is Panthera tigris. This is known as the largest animal of the family cat. The different colors; - such as is found in different orange with black stripes, white, and blue body. They may be different on the surface, the portion of the stomach below them is the same as white.  This is the most brutal considered wild animals, which are all frightened. It is a very powerful animal, which can leap long distances. It looks very cool, however, is very smart and takes much longer to catch their prey. The other animals; - like cows, deer, goats, rabbits (sometimes humans too), etc. are very much fond of blood and flesh. Tiger is considered the forest is called God, as a symbol of these funds in the wildlife in the country. Tiger force contains a mix of attractive, high strength and agility, which is a big reason for its courtesy and respect.


India's National Animal Tiger - Panthera Tigris

Tiger caste is known as a wild animal and India's national animal. It is almost like a cat because it comes under the family cat. It has large teeth and a long tail. These are the different colors (such as - white, blue, and orange) However, black streaks all over the body. It can run for long distances with large Clango in a few minutes because it offered padded feet with sharp claws as a gift by God. It has four teeth (two lower jaws in two above the jaw) that are very sharp, fast and strong, which are used to hunt to meet the requirement of food. The Tiger's length and height to fit 10 respectively 8 and 3 to 4 fit. 

Carnivorous animals: the tiger is a carnivore and is very fond of blood and flesh. This is sometimes an animal from the wild even, humans tend toward the village to eat as food. It does its prey (eg - buck, keeps zebras and other animals) and very strong and sudden attack through strong jaws and sharp claws on them. Usually, it is a victim of a fountain and night during the day. Kill without wild animals need food and need its nature and hobbies, which displays the strength and power of the other animals. That is why it is very well known as a cruel and merciless animal. It can be found in countries such as almost the entire Asia, Featured Bhutan, three, India and Siberia. 

The Scientific name of Tiger【Panthera Tigris】| Indian National Animal
The Scientific name of Tiger【Panthera Tigris】| Indian National Animal


Bengal tigers are usually found in beautiful forests (water, forest), which is based in Bangladesh and West Bengal, including other South-East Asian countries. They are found in orange with stripes of particular different colors, white, blue and black. Black stripes on their upper body help to hide from prey when hunting them. Are each different pattern of stripes on each tiger's body. Tiger is yellow and has black stripes on its body and belly is white. Which are different streaks on every tiger's body because they can hide in the bushes. 

Lifecycle mature after 4-5 years of males born, while females are mature at the age of 3-4 years. There is no fixed season for mating. The pregnancy period is of 95-112 days and can give birth to 1-5 children at a time. Young men leave their mother, while female tigers remain in the close area. Tiger in Indian culture has always been the dominant position. Also, stamps with the Royal Bengal Indian currency note tiger to provide an appropriate value as the national animal is featured. 

The findings are found in the tiger usually beautiful forest (Assam, West Bengal, Tripura, Madhya Bharat, etc.) in India. Although most are found in large leopard African forests, all seem Royal Bengal Tiger is the most beautiful. Tigers in the garden are prohibited in the country at that time when their number was very sharply. Yet six living species of tigers (eg - Bengal tigers, Siberian tigers, Sumatran tiger, Malayan tiger, Ido-Chinese inhabits tiger and South China tiger) and went three species recently extinct (the maid tiger, Caspian tiger, and Bali tiger). 

Project Tiger

There are many species and Upprjatiya tiger, which is found throughout the world. Tiger is an endangered species, however, all over the world (according to the tiger census) are very few tigers left that on Earth, we have to conserve to maintain life in any way. The Indian government has launched the program called "Project Tiger" In April 1973, to maintain the number of tigers in India and to protect their lives. It is very heartening that the "Project Tiger" campaign is a cozy tiger population in India (satisfactory) position. This habitat site remains the same damage and distress of poaching. His numbers in the world are less than 6,000. Approximately 4,000 of them are found in India. The Indian tiger is considered a separate species, whose scientific name for Tiger is Panthera tigris. Three of the nine species of tigers are now extinct. Origin of Bengal Tiger was in Siberia, however, due to cold weather as they moved south. 

Now, Royal Bengal Natural Heritage Tiger India. Bengal Tiger can be 7 to 10 feet tall and weighed 350 to 550 Libs. "Project Tiger" They are found in different sizes and weights depending on the species, subspecies, and places. Siberian tiger is considered the largest tiger. The female is a tiger, a little smaller than the males. A few decades ago, species of tigers were in constant danger, however, the situation was under control due to the "Project Tiger" in India. 

First objectives of his victim so by men; Like - was a huge amount of games, practice, doctor medicines, etc. "Project Tiger" the initiative went to control the number of tigers in April 1973 by the Government of India. Tiger's life due to the elimination of the risk of the forest, causing the loss of access to their species and they are possible to other locations. The findings are found in the tiger usually beautiful forest (Assam, West Bengal, Tripura, Madhya Bharat, etc.) in India. 

Although most are found in large leopard African forests, all seem Royal Bengal Tiger is the most beautiful. Tigers in the garden are prohibited in the country at that time when their number was very sharply. 

खेल शिक्षण पद्धति | Play Way System

खेल शिक्षण पद्धति | Play Way System | Psychology notes
खेल शिक्षण पद्धति | Play Way System | Psychology notes

Kindergarten


  • Frobel इनका जन्म  1782 में Germany  में हुआ।
  • बच्चों का बगीचा, बाल उद्यान
  • Teacher  माली
  •  Child    बच्चा कोमल पौधा
  • यह आदर्शवादी और आध्यात्मिक शिक्षा शास्त्री  है। यह दुनिया के पहले व्यक्ति है जिसने शिक्षा का आधार खेल को बनाया। 3 से 7 वर्ष के बच्चों के लिए पूर्व प्राथमिक शिक्षा है।

सिद्धांत
a) एकता का सिद्धांत 
         हर जीव एक ही परमात्मा ने बनाया है और अंत में एक ही परमात्मा के पास जा रहे हैं।
b) विकास का सिद्धांत
   हम सबका विकास अंदर से बाहर की ओर होता है।
c) खेल के द्वारा शिक्षा का सिद्धांत
हर बालक खेल-खेल में ही सीखता है। खेल हर बालक की मूल प्रवृत्ति है।
d) करके सीखने का सिद्धांत
 इसे आत्म क्रिया का सिद्धांत भी कहते हैं। इसमें बालक  कैसी कार्य को खुद कर कर सीखता है।
e) सामाजिकरण का सिद्धांत
 इसमें बच्चा सामूहिक क्रिया और सामूहिक खेलों से ज्यादा सीखता है।

 System

 a) Songs 

  • Play songs
  • Books   mother plays and nursery songs
  • There are 50 songs
  • खेल आध्यात्मिक  क्रिया है।


 b) Gesture

  •  Action  गति हाव भाव
  •  गीतों को हाव-भाव से गाने से शारीरिक और मानसिक विकास होता है।


 c) Construction रचना

  • व्यवसाय, Creative work करेंगे
  • No need of books
  • ज्ञानेंद्रियों का विकास होता है।
  • 7 types of gift  teaching aid
  • Main  cylindrical cubicle shapes,  Sphere  etc
  • छोटे बच्चों को महिलाएं ही पढ़ा सकती है।
  • Pre-primary महिलाएं पढ़ाती हैं। 
  • माताएं आदर्श शिक्षिकाएं होती है।
  • परिवार द्वारा दी गई अनौपचारिक शिक्षा अधिक प्रभावी और  प्राकृतिक होती है। (मनोविज्ञान पर आधारित शिक्षा होती है।)

Montessori method


  • Maria Montessori MD Doctor ( Italy )
  • मंदबुद्धि का कारण पांच ज्ञानेंद्रियां हैं। 
  • School name  Children's House 
  • यह प्रकृतिवादी, प्रायोगिक शिक्षा शास्त्री है।

सिद्धांत

 a) विकास का सिद्धांत

 b) स्वतंत्रता का सिद्धांत
बच्चे को पूर्ण स्वतंत्रता देनी चाहिए

 c) व्यक्तिगतता का सिद्धांत
खेल व्यक्तिगत होता है खेल शारीरिक ना होकर मानसिक हो ।

 d) स्वत: शिक्षा का सिद्धांत / Auto education /  self education

 e)  Learning by doing

 f)  Principle of sensory training 

 g) कर्म इंद्रियों का प्रशिक्षण

 h) सामाजिक प्रशिक्षण का सिद्धांत
कमरे की सफाई करना, अपनी सफाई करना, कपड़ों की सफाई करना,  बर्तनों की सफाई करना,  बिस्तर लगाना आदि ।
सामान्य बच्चों के लिए 3R’s  की शिक्षा होती है। Without books
इसमें पढ़ने से पहले लिखना सिखाते थे।

3R’s सीखने के लिए प्रबोधक उपकरण

  •  खेल ही बच्चों का कार्य है।
  •  बालक को स्वयं ही ज्ञान प्राप्त करने का अवसर दिया जाना चाहिए।
  •  शिक्षक को दखल नहीं  देना चाहिए।

गिजुभाई बधेका गुजरात के बच्चों  को मोंटेसरी पद्धति से पढ़ाते थे। इनके द्वारा  एक किताब भी लिखी गई जिसका नाम है दिवास्वप्न।

गांधीजी की बुनियादी शिक्षा

यह आदर्शवादी ज्यादा माने गए हैं लेकिन इन्हें प्रकृतिवादी और प्रयोजनवादी भी माना गया है।

आदर्शवादी Idealism

  • विद्यालय में नैतिक शिक्षा देने के कारण इन्हें आदर्शवादी माना जाता है।
  • Due to truth and nonviolence


प्रकृतिवादी

  • बाल केंद्रित शिक्षा को बढ़ावा देने व पढ़ाने के कारण इन्हें प्रकृतिवादी माना जाता है।
  • Due to child centred education


प्रयोजनवादी

  •  Due to experimental education like craft, project  etc...
  •  इसमें 7 से 14 वर्ष के बच्चों को शिक्षा दी जाती है।

विशेषताएं

  • यह एक हस्तशिल्प प्रधान शिक्षा है।
  • इस शिक्षा में बच्चों को आत्मनिर्भरता पर जोर दिया जाता है।
  • मातृभाषा में दी जाती है। No rule of English language.
  • इसमें श्रम का महत्व बताया जाता है। 
  • समन्वय पर जोर दिया जाता है-
    • सैद्धांतिक विचार
    • Education and self sufficiency
    • School and community
  • विषय  मातृभाषा,  social science, general science, maths, physical science, Meditation Education should be insurance against child unemployment.
  • 3H’s
  • सर्वोदय दर्शन पर जोर दिया जाता है।
वर्धा योजना
Chairman Zakir Hussain
1939 मे बीजी खेर समिति बनाई गई। यह समिति बुनियादी शिक्षा में परिवर्तन हेतु बनाई गई। 1944 में सार्जेंट कमीशन ने रिपोर्ट दी कि बुनियादी शिक्षा अच्छी है लेकिन यह कहना गलत है कि इसके द्वारा स्वावलंबन, आत्मनिर्भरता आ सकेगी।
ईश्वर सत्य है और सत्य ही ईश्वर है।
यह पुस्तकों  के उपयोग के विरुद्ध थे।
अध्यापक और छात्र दोनों की सृजनशीलता विकास में बाधक होती है।

शिक्षा सहायक सामग्री  Teacher Learning Materials

लाभ

  1.  सहायक सामग्री अध्यापक की संपूरक supplementary होती है ना की स्थानापन्न  substitute ।
  2.  इनसे बालक का अधिगम अधिक प्रभावी बनता है।
  3.  सहायक सामग्री से बच्चा शिक्षा में अधिक रूचि लेता है।
  4.  बच्चा सीखने के लिए अधिक प्रेरित होता है।
  5.  बच्चे को अधिक पुनर्बलन भी मिलता है।
  6.  बच्चे का अधिगम अधिक स्थाई बनता है।
  7.  शिक्षण बाल केंद्रित बनता है।

Types of Learning Materials

 a) Audio aid श्रव्य सामग्री 
Radio, tape, linguaphone.

 b) Visual aid दृश्य सामग्री
chart, globe, map, model etc….

 c) Audio Visual Aid दृश्य श्रव्य सामग्री
Television, computer, multimedia, mobile  etc...

 बिजली से चलने वाले उपकरण -  Projected aid
 बिना बिजली के चलने वाले उपकरण  - Non projected aid

 Multimedia packages बहुसाध्य

Screen,  projector, speakers, internet, computer, software etc…

Internet 

  1. www   world wide web
  2. Web of Information and Communication


ICT 

  1. Information Communication Technology 
  2. starts in school 2004


Intranet 

  • Computer share their information internally

Pixel

  • Smallest Point reflected on screen.


Computer language

  • Computer uses Binary language 0 1


CPU  Central Processing Unit

Epidiascope 
 An optical projector capable of giving image of both Opaque and transparent object. size of picture enlarged into x2 and x16 zoom for visually disabled children.

पाठ्यचर्या | Curriculum


पाठ्यचर्या | Curriculum | Psychology notes
पाठ्यचर्या | Curriculum | Psychology notes


पाठ्यचर्या उन सभी अधिगम अनुभव का सार होता है जो एक स्कूल द्वारा संगठित किया जाता है।  विद्यार्थी उसे स्कूल के चारदीवारी और बाहर भी अर्जित करता है।

कनिंघम - “पाठ्यचर्या एक कलाकार ( शिक्षक ) के हाथों में एक उपकरण है जिसके द्वारा वह अपने विचारों  के अनुसार अपने स्टूडियो ( स्कूल ) में अपनी सामग्री ( बालक ) को एक उचित रूप में ढालता है।

पाठ्यचर्या के विभिन्न कारक


  1.  पाठ्यक्रम, Syllabus, विषय वस्तु,  विषय सामग्री या पाठ्यवस्तु
  2.  पाठ्य सहगामी क्रिया  Co-curricular Activity
  3.  शिक्षण विधियां  Teaching Methods
  4.  शिक्षण व्यूह रचना
  5.  Teaching Aids
  6.  शैक्षिक तकनीक  Educational Technology
  7.  मूल्यांकन Evaluation 

पाठ्यचर्या निर्माण के आधार

  1.  मनोवैज्ञानिक आधार   ( इसके कारण पाठ्यचर्या बाल केंद्रित बनती है। )
  2.  ऐतिहासिक आधार
  3.  समाजशास्त्रीय आधार
  4.  सांस्कृतिक आधार
  5.  वैज्ञानिक आधार
  6.  दार्शनिक आधार

पाठ्यचर्या निर्माण के चरण

  1.  आवश्यकता का निर्धारण
  2.  उद्देश्य का निर्धारण
  3.  अधिगम अनुभवों का निर्धारण
  4.  मूल्यांकन ( पाठ्यचर्या का  ना की बालक का )

पाठ्यचर्या के विभिन्न प्रकार

 1. विषय केंद्रित पाठ्यचर्या

 2. बाल केंद्रित पाठ्यचर्या 

 3. एकीकृत पाठ्यचर्या
                  NCF-2005 इसी पाठ्यचर्या की सिफारिश करता है। इसमें अध्यापक अपने विषय को पढ़ाते समय बालक के अन्य विषयों को जोड़कर या सहसंबंध बनाकर पढ़ाता है। इसमें शिक्षण के दो उपागम  उपयोग में लाए जाते हैं -
 a) अंतर शास्त्रीय ( विषय ) उपागम   Inter Disciplinary Approach
 b) बहु शास्त्रीय उपागम   Multidisciplinary Approach
                 इसे विषयों की दीवारें तोड़ना भी कहा जाता है। या अपने विषय के परे शिक्षण करना भी कहा जाता है। हर विषय का संबंध Correlation एक-दूसरे विषय से होता है। 

4. सह संबंधित पाठ्यचर्या
                इस पाठ्यचर्या में एक ही विषय के  किसी-किसी टॉपिक को  उस कक्षा के कई अध्यापक अपने-अपने पीरियड में आपस में सहसंबंध बनाकर पढ़ाते हैं। 
Example -  History, Drawing, Music, Language,  Geography (  used in Chapter Our Freedom Movement )

5. व्यापक क्षेत्र पाठ्यचर्या  BroadField Curriculum 
               एक जैसी प्रकृति के विषयों को एक ही विषय के अंदर डालकर पढ़ाया जाता है। 
उदाहरण - History + political science + geography  >>>>>>>>>>>  social science

6. प्रच्छन्न पाठ्यचर्या  Hidden Curriculum
              बालक अपने स्कूल के वातावरण में अपने अध्यापकों के व्यवहारों, साथियों के व्यवहारों तथा स्कूल के दैनिक कार्यक्रमों  के संपर्क से अनेक प्रकार के मूल्य जैसे कि नैतिक मूल्य, सांस्कृतिक मूल्य और सामाजिक मूल्य स्वयं ग्रहण करते रहते हैं। प्रच्छन्न  के अन्य नाम -  गुप्त पाठ्यचर्या, अव्यक्त पाठ्यचर्या, Implicit Curriculum, Covert Curriculum etc.. 

7. Core Curriculum
             इसका जन्म यूएसए में हुआ। भारत में दसवीं तक कोर करिकुलम  Core Curriculum  है।  यह पाठ्यचर्या लचीला नहीं होता इसमें लगभग सभी विषय हर बालक को पढ़ने अनिवार्य है।
उद्देश -  बालकों में दैनिक जीवन कौशल विकसित करना।

8. गतिविधि /  अनुभव केंद्रित पाठ्यचर्या 
             इसके जनक जॉन डीवी John Dewey है। भारत में यह बेसिक शिक्षा के नाम से जाना जाता है। बेसिक शिक्षा के अंतर्गत Craft centered education  आती है।

9. अग्रिम पंक्ति पाठ्यचर्या  Frontline Curriculum 
            इस पाठ्यचर्या में शैक्षिक तकनीकी के द्वारा अधिकतर शिक्षण किया जाता है। इस में अध्यापक की भूमिका सहअध्येता Co-Learner वाली होती है।

10. लंबवत पाठ्यचर्या 
            विषय वस्तु के सरल से जटिल के क्रम में पूरे अध्ययन कार्यक्रम के अंतर्गत Lesson Wise तथा Class wise  पढ़ाया जाता है। इस पाठ्यचर्या में पूर्ववर्ती पाठ का अधिगम अनुवर्ती पाठ के लिए तथा पूर्ववर्ती कक्षा का अधिगम अनुवर्ती कक्षा के लिए पूर्व ज्ञान बनता चला जाता है।

11. क्षेतिजीय पाठ्यचर्या   Horizontal Curriculum
           यह पाठ्यचर्या दसवीं के बाद लगाई जाती है। इसमें एक ही कक्षा के अलग-अलग विषयों  की एक समान पाठ्यचर्या बनाई जाती है।

पाठ्यचर्या संगठन

           किस विषय वस्तु को किस मात्रा में किस कठिनाई स्तर तक किस कक्षा की पाठ्यपुस्तक में प्रस्तुत किया जाए इसे पाठ्यचर्या संगठन कहा जाता है।

 विधियां

1. प्रकरण  विधि   Tropical Method 
           प्रकरण विधि के अनुसार किसी पूरे टॉपिक को ही केवल एक ही कक्षा के पाठ्यपुस्तक के एक ही पाठ में डालकर पढ़ाया जाता है। उदाहरण -  आठवीं कक्षा का ग्राम पंचायत अध्याय

2. चक्रीय विधि वर्तुल  विधि   Spiral Method
           इस विधि में एक ही विषय वस्तु को अंश में विभाजित करके कई शैक्षिक कार्यों के अंतर्गत शिक्षण दिया जाता है। उदाहरण - Chapter our health in class 4th 7th and 10th


भाषा विकास | Language Development


भाषा विकास | Language Development | Psychology notes
भाषा विकास | Language Development | Psychology notes

Language भाषा 

भाषा विचारों के आदान-प्रदान का साधन है। भाषा व्यक्ति वस्तु या स्थान का सूचक है।

 भाषा विकास के चरण


  1.  सुनना
  2.  बोलना
  3.  पढ़ना
  4.  लिखना

भाषा विकास की अवस्थाएं

 1. रोना
रोना भाषा विकास की पहली अवस्था है।  रो कर बच्चा अपनी दुख की भावनाओं को प्रकट करता है। बच्चा अलग-अलग तरह से रोता है।

 2. घुटकना
3 महीने का बच्चा घुटकना शुरू करता है। किस प्रक्रिया में बच्चा स्वर वर्ण का उच्चारण करता है। इस प्रक्रिया में बच्चा अपने हर्ष को प्रकट करता है।

 3. बलबलाना

  • 6 माह का बच्चा बलबलाना शुरु करता है। इस प्रक्रिया में बच्चा स्वर के साथ व्यंजन मिलाने लगता है। जैसे -  चा, की, पा, मां, लो आदि………..
  • 9 माह का बच्चा एक ही वर्ण लगातार श्रंखला के रूप में  दोहराता है। जिसे शब्द अनुकरण या इको ललिया ECHOLALIA  कहते हैं।


 4. बोलना

  • 12 से 18 माह का बच्चा बोलना शुरू करता है। सबसे पहले बच्चा एक शब्द वाला वाक्य बोलता है यह शब्द संज्ञा होता है  जैसे पापा, पानी, घर आदि यह शब्द पूरे वाक्य का अर्थ स्पष्ट  कराते हैं। इस प्रकार के बोलने को एक शब्द वाला वाक्य Holo Phrase कहते हैं। सर्वनाम का प्रयोग करते समय बच्चा तुम की तुलना में मैं का प्रयोग अधिक करता है।


  • 18 से 24 माह का बच्चा दूसरा शब्द बोलना शुरू करता है। दूसरा शब्द क्रिया होता है अर्थात बच्चा अपने दूसरे जन्म दिवस पर दूसरा शब्द बोलता है। इस प्रकार से बोलने को तार वाली भाषा Telegraphic Speech कहते हैं।


  • इसके तुरंत बाद बच्चा तीसरा सब बोलना शुरू करता है तीसरा शब्द विशेषण होता है।


  • ढाई 2 ½ वर्ष का बच्चा व्याकरण का प्रयोग शुरु कर देता है। अर्थात वचन और लिंग का प्रयोग करने लगता है।


  • 4 से 5 वर्ष के बच्चे लंबे वाक्य बोलने लगते हैं। लगभग इसी समय तक उच्चारण विकास पूरा हो जाता है इसके लिए माता-पिता व परिवार जिम्मेदार होता है। अतः माता-पिता को स्पष्ट शुद्ध उच्चारण करना चाहिए।


  • 9 से 10 वर्ष के बच्चे का भाषा विकास पूरा हो जाता है अर्थात बच्चा हर प्रकार के वाक्य पढ़ लेता है, लिख लेता है अथवा समझ लेता है।


भाषा विकास के सिद्धांत

1. वातावरणीय सिद्धांत  - बीएफ स्किनर ( यूएसए )
भाषा विकास में वातावरण की महत्वपूर्ण भूमिका होती है जैसा वातावरण होता है बच्चे की भाषा वैसी ही होती है। बच्चों को भाषा व्यक्तित्व वस्तु या चित्र से संबंध जोड़कर समझाई जाती है। बच्चों को भाषा निम्न क्रम में सिखाई जाती है -

  1.  अनुकरण
  2.  पुनर्बलन
  3.  अभ्यास


2. जन्मजात सिद्धांत   - नोम चोम्स्की
बच्चे के भाषा विकास में वंशानुक्रम की महत्वपूर्ण भूमिका होती है बच्चा LAD Language Acquisition Development के साथ जन्म लेता है।

  • L     Language          भाषा
  • A    Acquisition        ग्रहण
  • D    Development     साधन

अर्थात बच्चे के अंदर भाषा सीखने की जन्मजात क्षमता होती है बाद में चोमस्की में LAD को  सार्वभौमिक भाषा व्याकरण Universal language grammar कहा। अर्थात बच्चे के अंदर जन्म से ही विश्व की सभी भाषाओं की व्याकरण उपलब्ध रहती है। उदाहरण -  एक हिंदी परिवार का बच्चा अंग्रेजी पर्यावरण में रहकर अंग्रेजी सीखता है। वह बच्चा अंग्रेजी इसलिए सीख पाया क्योंकि बच्चे के अंदर अंग्रेजी  की व्याकरण पहले से ही मौजूद  है।

चोम्स्की के अनुसार भाषा सीखते हुए बच्चा 2 नियमों का प्रयोग करता है -

 1. सतही संरचना का नियम Law of surface structure
इस नियम के द्वारा बच्चा शाब्दिक अभिव्यक्ति जैसे बोलना, पढ़ना, लिखना आदि सीखता है।
 2. गहरी संरचना का नियम  Law of deep structure
इस नियम के द्वारा बच्चा वाक्य के अर्थ सीखता है।
उदाहरण -
a)  दो  सतही संरचना  की संरचना एक ही हो सकती है। जैसे -

  • Ram reads a book.
  • A book is read by Ram.

b)  एक  सतही संरचना  की गहरी संरचना जो भी हो सकती हैं। जैसे -

  • A lamb is ready to eat. 
  • रोको  मत जाने दो


भाषा सीखने की समस्या चोमस्की के अनुसार,
  सतही संरचना से गहरी संरचना में प्रवेश करना ही भाषा सीखने की समस्या है। 

विचार एवं भाषा में संबंध

जीन पियाजे के अनुसार बच्चे की भाषा जीवन से ही उनके विचारों का अनुसरण करती है। विचारों का अनुसरण ही नहीं करती बल्कि उसे आगे भी बढ़ाती है अर्थात विचार और भाषा दोनों एक दूसरे को प्रभावित करते हैं।
लेव वाइगोत्सकी  दो वर्ष तक बच्चों की भाषा और विचार अलग-अलग होते हैं। 2 वर्ष के बाद बच्चों के विचार एवं भाषा एक होने लगते हैं।

लेव वाइगोत्सकी का योगदान

बच्चों के विकास में समाज और संस्कृति की महत्वपूर्ण भूमिका होती है  जैसा समाज होता है बच्चे का विकास वैसा ही होता है। बच्चे अपने से बेहतर के साथ अच्छा सीखता है। बच्चों को पहले स्वयं विकास करने का अवसर देना चाहिए जब बच्चा विकास करने में असमर्थ हो तो बड़ों को सहायता करनी चाहिए।
 बच्चे अपने कार्यों को दिशा देने के लिए स्वयं से बातें करता है। इस प्रकार की बोली को व्यक्तिगत बोली या भाषा कहते हैं। वाइगोत्सकी के अनुसार -
“ बच्चा पहले सीखता है फिर उसका विकास होता है।”

लेव वाइगोत्सकी के अनुसार महत्वपूर्ण संप्रत्यय

1. Internalization  आत्मसात करना
  बच्चों के द्वारा स्वयं अपने प्रयासों से सीखा गया ज्ञान आत्मसात कहलाता है।
 जैसे -  बच्चों के द्वारा मात्र भाषा सीखना

2. Scaffolding  सहारा /  पाड / पाडट /  ढांचा
 बच्चों के विकास में अनुभवी व्यक्तियों का अस्थाई सहयोग होता है। यह सहयोग प्रशंसा एवं सहायता के रूप में हो सकता है।

3. ZPD Zone of proximal development  समीपस्थ विकास का क्षेत्र
 अनुभवी व्यक्तियों के सहयोग से विकसित होने  वाला क्षेत्र अर्थात बच्चों के द्वारा स्वयं विकास किया गया क्षेत्र और बड़ों की सहायता से विकास किया गया क्षेत्र का अंतर।


व्यक्तित्व | Personality


व्यक्तित्व | Personality | Psychology notes
व्यक्तित्व | Personality | Psychology notes

What is Personality ? व्यक्तित्व क्या है ?

Personality

व्यक्तित्व शब्द  Latin भाषा के  persona से लिया गया है जिसका अर्थ है  चेहरा, mask, मुखौटा,  नकाब आदि। मुखौटा जिसे नाटक करते समय  नायक पहनते हैं अर्थात जैसा नकाब वैसा व्यक्तित्व ।
व्यक्तित्व का संबंध पहनावे से जोड़ दिया गया है। जिसका पहनावा अच्छा होता है उसका व्यक्तित्व भी अच्छा माना गया है। व्यक्तित्व का संबंध पहनावे से जोड़ना अधिक प्रचलित नहीं हुआ।

व्यक्तित्व की अनेकों परिभाषाएं दी गई किंतु अल्पोर्ट Alport की परिभाषा सबसे मान्य परिभाषा मानी गई। Alport ने 1937 ई. में व्यक्तित्व की और  49 परिभाषा का विश्लेषण करने के बाद अपनी  50 वी परिभाषा प्रस्तुत की। Alport के अनुसार,
“ व्यक्तित्व व्यक्ति के भीतर उन मनु शारीरिक तंत्रों का गत्यात्मक संगठन है जो वातावरण के साथ अपूर्व समायोजन का निर्धारण करता है। ”

व्यक्तित्व के अंदर शारीरिक और मानसिक दोनों गुण शामिल  होते हैं। गुणों का यह संगठन परिवर्तनशील है। वातावरण के साथ यह अपने ढंग का समायोजन करता है। 

व्यक्तित्व के सिद्धांत

A.व्यक्तित्व का प्रकार सिद्धांत

1.द्रव्य के आधार पर (  400 ईसा पूर्व  हिप्पोक्रेट्स द्वारा )
इनके अनुसार मानव शरीर में चार प्रकार के द्रव्य पाए जाते हैं जिस धर्म की प्रधानता होती है व्यक्तित्व वैसा ही हो जाता है। जैसे-
  • पीला  पित्त Yellow bile  चिड़चिड़ा होना
  • काला  पित्त  black bile  निराशावादी  होना
  • खून     blood  आशावादी होना
  • कफ   phlegm  निष्क्रियता वादी होना

मानव शरीर में पाए जाते हैं कितनी मात्रा में पाए जाते हैं कहा नहीं जा सकता।

2. शारीरिक रचना के आधार पर
   क्रैशमर द्वारा Kretshmer
 a) Picnic type  कद छोटा, शरीर मोटा, गर्दन  छोटी, खाने-पीने और सोने का शौकीन,  सामाजिक, खुशमिजाज आदि ।
 b) Asthenic type   कद लंबा, शरीर दुबला पतला, सामाजिक नहीं होता, चिड़चिड़ा होते हैं। 
 c) Athletic type  स्वस्थ शरीर, किसी भी परिस्थिति में समायोजित हो जाते हैं ,सामाजिक प्रतिष्ठा ज्यादा मिलती है ।
 d) Dysplastic type  उन लोगों के लिए जो बाकी में नहीं थे । इसमें एक से अधिक विशेषता पाई जाती है।

 Sheldon द्वारा
a) Endomorphy   स्थूल काय 
कद छोटा, शरीर मोटा, गर्दन  छोटी, खाने-पीने और सोने का शौकीन,  सामाजिक, खुशमिजाज आदि ।

b) Ectomorphy  कृश काय
कद लंबा, शरीर दुबला पतला, सामाजिक नहीं होता, चिड़चिड़ा होते हैं। 
c) Mesomorphy  पुष्ट काय
 स्वस्थ शरीर, किसी भी परिस्थिति में समायोजित हो जाते हैं ,सामाजिक प्रतिष्ठा ज्यादा मिलती है ।

3. मानसिक संरचना के आधार पर   ( जुंग द्वारा )

 a) अंतर्मुखी Introvert  
  •  एकांत में रहना पसंद करते हैं।
  •  लोगों से मिलना जुलना पसंद नहीं करते।
  •  पुराने विचारों वाले होते हैं।
  •  सामाजिक नहीं होते हैं।


 b) बहिर्मुखी Extrovert
  •  नए विचारों वाले होते हैं।
  •  लोगों से मिलना जुलना पसंद करते हैं लोगों में घुल मिल जाते हैं। 
  •  सामाजिक होते हैं।


 यह बाद में जोड़ा गया

c) उभय मुखी Ambivert
  वह व्यक्ति जिसमें अंतर्मुखी और बहिर्मुखी दोनों के गुण शामिल होते हैं उन्हें उभय मुखी कहा जाता है।

4. व्यक्तित्व का आधुनिक प्रकार  ( friedman and rosenman )

 A type personality
  • यह व्यक्ति उच्च अभीप्रेरित होते हैं । इनके पास काम ज्यादा होता है समय कम होता है। यह जल्दी में होते हैं। काम के बोझ से दबे होते हैं।
  • इन्हें बीपी और दिल की बीमारी जल्दी होती है ।


 B type personality
  • किस प्रकार के व्यक्ति में  ए टाइप के विपरीत विशेषता पाई जाती है।


 Morris ने type C personality का वर्णन किया। 
  • यह व्यक्ति सहयोगी होते हैं। 
  • यह धैर्यवान और अल्प भाषी होते हैं। 
  • Disease - cancer 


D type personality
  • बाद में  टाइप डी को जोड़ा गया है।
  • यह व्यक्ति अवसाद, डिप्रेशन, तनाव, रुचि की कमी से ग्रसित होते हैं।


B.  मनोविश्लेषणात्मक सिद्धांत

 ⇥ by Sigmund Freud
 यह तीन भागों में बांटा हुआ है-

1. व्यक्तित्व  का गत्यात्मक सिद्धांत
 व्यक्ति के अंदर तीन प्रकार की मानसिक क्रियाएं होती है। 

a) अचेतन
  • वह घटनाएं अथवा सूचनाएं जो हमें पूर्ण रूप से भूल चुकी है यह हमारी मानसिक प्रक्रिया का 90% है।
  • हमारे अचेतन में ज्यादातर असामाजिक और अनैतिक घटनाएं होती है।


b) अर्ध चेतन 
  • वे घटनाएं जो कुछ प्रयासों के बाद स्मरण हो जाती है।


c) चेतन
  •  वे घटनाएं वे सूचनाएं जो हमेशा याद रहती है।
 व्यक्ति का व्यक्तित्व अचेतन से प्रभावित होता है।

 2. व्यक्तित्व का संरचनात्मक सिद्धांत
a) ID इदम्
  • यह अचेतन में काम करता है।
  • इसमें पाशविक इच्छा Animal feelings  होती है।
  • सुख, लाभ, लक्ष्य, तुरंत प्राप्त करना चाहता है वह भी बिना किसी बाधा के।
  • स्वार्थी स्वभाव का होता है।

b) Ego अहम 
  • यह वास्तविक जगत में काम करता है।
  • यह Id or superego  के बीच संतुलन बनाता रहता है।


 c) परमअहम Super Ego
  •  यह भी अचेतन में काम करता है।
  •  परिवार, समाज, और देश के लिए बलिदान  के लिए तैयार रहता है। 


अच्छा व्यक्तित्व मजबूत अहम  पर निर्भर करता है। व्यक्ति का व्यक्तित्व चिंता से प्रभावित होता है।

 चिंता Anxiety
 यह तीन प्रकार की होती है -

 a) वास्तविक चिंता Actual  anxiety 
  •  दुर्घटना, आपदा, बीमारी से संबंधित जनता को वास्तविक चिंता कहते हैं।


 b) तंत्रिका गत चिंता Neurotic anxiety
  •  ID and Ego के संतुलन की चिंता,
  •  व्यक्ति को चिंता होती है कि कहीं अहम के कमजोर होने पर अनैतिक या असामाजिक कार्य ना हो जाए।


  c) नैतिक चिंता Moral anxiety
  • Ego and SuperEgo  के संतुलन की चिंता ,
  • व्यक्ति को चिंता होती है कि अहम कमजोर होने पर समाज में लज्जित ना होना पड़े। 


किसी भी प्रकार की चिंता व्यक्तित्व के विकास के लिए अच्छी नहीं होती अतः हमें चिंता को दूर करने के लिए उपाय या प्रयास करने चाहिए। चिंता को दूर करने के लिए अहम का मजबूत होना आवश्यक है। हम को मजबूत बनाने के लिए की जाने वाली प्रक्रिया को रक्षात्मक प्रक्रिया या रक्षात्मक प्रक्रम Defensive Mechanism कहते हैं।  यह निम्नलिखित विधियों से अपनाया जाता है -

 a) दमन  Repression
  •  चिंता का पूरी तरह से भूल जाना दमन कहलाता है।


  b) प्रतिगमन  Regression
  •  चिंता की मूल स्थिति से एक कदम पीछे हट जाना।


  c) विस्थापन  Displacement
  •  चिंता को उसी रूप में दूसरों को विस्थापित स्थानांतरण करना।


  d) उद्दादांतीकरण  Sublimation 
  • चिंता के मूल स्थिति से हटकर कहीं और व्यस्त हो जाना।


 e) तार्किकरण  Rationalization 
  • तर्क वितर्क के द्वारा चिंता को दूर करना।


  f) प्रक्षेपण  Projection
  •  चिंता के मूल स्थिति / कारक के लिए दूसरों को दोषी ठहराना।



3. व्यक्तित्व  का मनो लैंगिक सिद्धांत  Psychosexual Theory

सिगमंड फ्रायड के अनुसार मनुष्य में जन्म से ही यौन ऊर्जा होती है जिसे Libido कहा जाता है। इस ऊर्जा के कारण व्यक्ति जन्म से मृत्यु तक अपनी यौन ऊर्जा की पूर्ति करना चाहता है। व्यक्ति अलग पता बताओ मैं अलग अलग तरीके से यौन ऊर्जा की पूर्ति करता है।

 a) मुखा अवस्था Oral Stage 0 to 2 years
 इस अवस्था में बच्चों के यौन इच्छा का प्रमुख केंद्र मुख होता है। बच्चे वस्तुओं को काटकर, चूस कर, निकल कर अपनी यौन सुख को प्राप्त करता है।

 b) गुदा अवस्था Anal Stage 2 to 3 years
 इस अवस्था में बच्चे की योन इच्छा का प्रमुख केंद्र  गुदा होता है।  शौच क्रिया को  कर कर बच्चा यौन सुख प्राप्त करता है।

c) शैशनावावस्था Phallic Stage 3 to 6 years
 इस अवस्था में बच्चे की योन इच्छा का प्रमुख केंद्र लिंग होता है। बच्चे में लड़के या लड़की होने का आभास इसी अवस्था में होता है। लड़कों के अंदर माता के प्रति झुकाव होता है जिसे Oedipus Complex कहते हैं। लड़की के अंदर अपने पिता के प्रति झुकाव होता है जिसे Electra Complex  कहते हैं ।

 d) अव्यक्त अवस्था Latency Stage 6 to 12 years
 इस अवस्था में बच्चे के अंदर यौन इच्छा पूरी तरह से शांत हो जाती है। बच्चा यौन ऊर्जा का प्रयोग खेल, पढ़ाई, संगीत आदि क्षेत्रों में करता है।

 e) जननेंद्रिय अवस्था Genital stage 12 to above years
 इस अवस्था में बच्चे शारीरिक रूप से परिपक्व होने लगते हैं। शारीरिक संबंधों द्वारा शारीरिक  योन सुख प्राप्त कर सकते हैं।

C. व्यक्तित्व के शीलगुण सिद्धांत  Alport  द्वारा

 शीलगुण -  ऐसी आदत जो लगभग स्थाई हो शीलगुण कहलाती है।

Alport के अनुसार शीलगुण दो प्रकार के होते हैं जो निम्नलिखित है 

 1. सामान्य  शीलगुण General Traits
ऐसे शीलगुण जो समाज अथवा देश के अधिकांश लोगों में पाया जाता है। जैसे -उत्तर भारत के लोग स्वार्थी होते हैं। दक्षिण भारत के लोग ईमानदार होते हैं। दो या दो से अधिक व्यक्तियों की तुलना की जा सकती है।

 2. व्यक्तिगत शीलगुण Individual Traits
 यह शीलगुण व्यक्ति विशेष में पाया जाता है। अल्पोर्ट के अनुसार यह सामान्य शीलगुण से बेहतर होता है। यह तीन प्रकार का होता है -

  • Cardinal :  ऐसे शीलगुण को जो किसी किसी में पाया जाता है किंतु जिस में भी मिलता है तो सारे संसार से परिचित हो जाता है। जैसे-  हिटलर, महात्मा गांधी आदि….
  • Central traits केंद्रीय शीलगुण :  सामान्य व्यक्तियों का व्यक्तित्व किसी शीलगुण पर आधारित होता है। इसमें 5 से 10 विशेषताएं शामिल होती हैं। जैसे-  ईमानदारी, सच्चाई, दोस्ती आदि…………
  • सहायक शीलगुण Subordinate  traits :  इसमें भोजन, वस्त्र, और बालों की बनावट शामिल है। इस शीलगुण द्वारा  व्यक्तित्व का निर्धारण नहीं होता केवल व्यक्तित्व को सहयोग प्राप्त होता है।

व्यक्तित्व का मापन

व्यक्तित्व के मापन  की तीन विधियां हैं -

A.आत्म निष्ठ विधि  Subjective Method
                 ऐसी विधि जिस पर व्यक्तित्व का मापन करने वाले का प्रभाव या असर पड़ता है।
  •  साक्षात्कार Interview
  •  प्रेक्षण Observation
  •  व्यक्ति इतिहास विधि Case Study Method
  •  संचई अभिलेख  Cummulative
  •  वृत्तांत अभिलेख Anecdotal record ( without planning,अचानक व्यक्ति के व्यवहार का  प्रेक्षण करना )


B. वस्तुनिष्ठ विधि  Objective Method
                   ऐसी विधि  जिसमें व्यक्तित्व का मापन व्यक्तियों द्वारा दिए गए उत्तरों के आधार पर होता है।

1.व्यक्तित्व आविष्कारिका Personality Inventory
                  इसमें प्रश्नों की सूची होती है। प्रश्न सीधे सरल और स्पष्ट होते हैं। प्रश्नों का उत्तर  हां, नहीं, सही, गलत  मे देना होता है। प्रश्न प्रथम कारक में होते हैं।
जैसे -  मैं ईमानदार हूं……………,  मैं चोर हूं………... आदि
उदाहरण -
  • MMPI  Minnesota multiphasic personality inventory  - Hathaway
  • Bell adjustment inventory  - Bell
  • PF 16 personality factor  - Cattle

आविष्कारिका के प्रश्न इतने सीधे, सरल और स्पष्ट होते हैं कि कोई भी व्यक्ति असली उत्तर छिपा सकता है।

2. प्रश्नावली  Questionnaire
                  इसमें प्रश्नों की सूची होती है। प्रश्न सीधे, सरल और स्पष्ट होते हैं। प्रश्नों का उत्तर हां, नहीं, सही, गलत में देना होता है। प्रश्न  द्वितीय कारक में होते हैं। जैसे-
तुम इमानदार हो…………,   तुम चोर हो……….. आदि
प्रश्नावली का प्रयोग व्यक्तित्व मापन के साथ साथ अन्य क्षेत्रों में भी होता है जबकि आविष्कारिका का प्रयोग केवल व्यक्तित्व मापन में होता है।

3. Checklist

4. Rating scale

5. समाजमिति  Sociometry
               व्यक्तित्व का मापन साथ रहने वाले लोग द्वारा होता है। सभी के द्वारा पसंद किए जाने  पर व्यक्तित्व स्टार Star माना जाता है। किसी के द्वारा पसंद न किए जाने पर व्यक्तित्व विलग Isolated माना जाता है। किसी छोटे ग्रुप द्वारा पसंद किए जाने पर व्यक्तित्व क्लिक Clique माना जाता है।

C. प्रक्षेपी विधि  Projective Method
                 ऐसी विधि जिसमें व्यक्तित्व के संबंधित सीधे प्रश्न नहीं पूछे जाते।

1. शब्द साहचर्य विधि   Word Associative Method   -Yung
                इसमें शब्दों की सूची सुनाई जाती है सुने हुए शब्दों में से उपयुक्त शब्द चुनना होता है। चुने हुए शब्दों के संबंधों के द्वारा व्यक्तित्व का मापन होता है।

2. वाक्य पूर्ति परीक्षण   Sentence Completion Test
                इसमें अधूरे वाक्य लिए जाते हैं जिन्हें अपने अनुभव से वह ज्ञान से पूरा करना होता है। जैसे -
  •  मेरी माता………………..
  •  ईश्वर……………..


3. स्याही धब्बा परीक्षण  Inkblot Test - Rorschach Test
              स्याही के धब्बे वाले 10 कार्ड होते हैं जिन्हें देखकर व्यक्ति को बताना होता है की धब्बों में क्या दिखाई दिया। बताई गई बातों के आधार पर व्यक्तित्व का मापन होता है।

 4. विषय आत्म बोधन परीक्षण TAT Thematic Apperception Test 
              - Murry /  Morgan
              इस परीक्षण में 30 कार्ड होते हैं चित्र वाले और एक साधारण होता है 30 + 1  बराबर 31 कार्ड होते हैं। 30 कार्ड तीन भागों में विभाजित होते हैं। 10 पुरुष के, 10 महिला के, 10 मिक्स होते और एक खाली कार्ड होता है।
 जिस व्यक्ति व्यक्तित्व चेक करना है उसके लिंग के आधार /  अनुसार  पहले 10 कार्ड दिए जाते हैं जिन्हें देखकर व्यक्ति को कहानी लिखनी होती है। कुछ घंटों के बाद 10 मिक्स काट दिए जाते हैं जिन्हें देखकर व्यक्ति को कहानी लिखनी होती है। अंत में सादा कार्ड दिया जाता है जिस पर चित्र बनाकर कहानी लिखनी होती है। इस तरह कहानियों की संख्या 21 कार्ड की हो जाती है। कहानियों का विश्लेषण करने के बाद व्यक्तित्व का मापन किया जाता है।

5. बाल आत्म बोधन परीक्षण CAT Children Apperception Test 
              इस परीक्षण में पशुओं के चित्र वाले 10 कार्ड होते हैं। जिन्हें देखकर बच्चों को बताना होता है कि कार्ड में क्या दिखाई दिया। यह परीक्षण 3 से 10 वर्ष के बच्चों के लिए बनाया गया है। बच्चे पशुओं के हावभाव को आसानी से समझ लेते हैं।





समावेशी शिक्षा | Inclusive education


समावेशी शिक्षा | Inclusive education | psychology notes
समावेशी शिक्षा | Inclusive education | psychology notes

समावेशी शिक्षा का अर्थ

ऐसी शिक्षा जिसमें सभी तरह के / विभिन्न प्रकार के बच्चों को एक निश्चित नियमित स्कूल में प्रदान की जाने वाली शिक्षा को समावेशी शिक्षा कहा जाता है।

 बच्चों में भिन्नता के प्रकार :   बौद्धिक भिन्नता, सामाजिक भिन्नता,  शारीरिक भिन्नता, भाषिक भिन्नता,  अधिगम भिन्नता, आदि।

दिव्यांग शब्द के अलावा बोलने वाले शब्द

  • CWSN  Children With Special Need
  • Differently abled
  • विकलांग
  • निरयोग्य 
  • निशक्त


 1994 -  स्पेन में Salamanca सालामांका शहर में समावेशी शिक्षा पर सम्मेलन

Students according to IQ  level 

समावेशी शिक्षा | Inclusive education | IQ levels


Education System in INDIA

1. सामान्य शिक्षा प्रणाली
इस प्रणाली में केवल सामान्य बच्चे पढ़ते हैं। इस प्रणाली में विशिष्ट बच्चे नहीं पढ़ते हैं।

2. विशिष्ट शिक्षा प्रणाली Special education
इस प्रणाली में केवल दिव्यांग बच्चे पढ़ते हैं। इस प्रणाली में सामान्य बच्चे नहीं पढ़ते हैं।

3. एकीकृत शिक्षा प्रणाली Integrated education
इस प्रणाली में दोनों तरह के ( सामान्य + विशिष्ट ) बच्चे पढ़ते हैं लेकिन संपूर्ण सुविधाएं नहीं मिलती है।

4. समावेशी शिक्षा प्रणाली Inclusive education
इस प्रणाली में विभिन्न तरह के बच्चे पढ़ते हैं तथा संपूर्ण शिक्षा सुविधाएं प्राप्त होती है।

समावेशी शिक्षा | Inclusive education | psychology notes


अधिगम अक्षमता Learning disabilities

1. Dyslexia  डिस्लेक्सिया

  • तंत्रिका तंत्र की कमजोरी
  • Reading Problem
  • पढ़ते समय line को छोड़ना
  • शब्दों को छोड़ छोड़ कर आगे बढ़ जाना
  • धीमा पढ़ना
  • अशुद्ध वाचन

निदान -  अभ्यास द्वारा

2. Dysgraphia डिसग्राफिया

  •  लेखन  विकार
  •  आलस
  •  छोटे बड़े अक्षर लिखना
  •  धीमा लिखना
  •  लिखावट में परेशानी
  •  भद्दा लिखना
  •  गलत लेखन
  •  अक्षरों के बीच में gap ज्यादा छोड़ना

निदान -  लेखन अभ्यास द्वारा, खेल द्वारा

3. Dyscalculia डिस्केलकुलिया

  •  दृश्य और श्रवण इंद्रियों के सामंजस्य में कमी
  •  आलस्य पन 
लक्षण
  •  problem in exchange of money
  •  problem in identification of shapes
  •  problem memorization of formulae
  •  slow writing 

 निदान -  practice of math,  Play Way method

4. ADHD  Attention Deficit Hyper Active Disorder
 कारण -  Neurological problem, पारिवारिक वातावरण
लक्षण

  •  अपनी बारी का इंतजार ना करना
  •  दो लोगों को बीच में टोकना
  • आवेगो के नियंत्रण की कमी
  •  प्रश्न पूरा होने से पहले उत्तर देना
  •  बेचैन रहना

 निदान

  • बच्चों से सरल प्रश्न पूछना
  • सकारात्मक व्यवहार के लिए प्रोत्साहित करना
  • Stop  →  think  →  action
  • प्रश्न का उत्तर लिखते समय - पहले समय को घटाना, फिर समय बढ़ाना।


5. Dysthymia  -  Mood disorder
6. Dysphasia   -  भाषा दोष,  उच्चारण दोष
7. Dysmemographia  -  स्मृति दोष
8. Dyspraxia  -  हाथ, मांसपेशी और कान के समन्वय में कमी
9. Auditexia  -  श्रवण दोष
10. Aphasia  -   भाषा  घात

दिव्यांगों के लिए Acts

1. Mental Health act 1987

  • मानसिक रोगियों का उपचार
  • मानसिक रोगी का पुनर्वास ( Rehabilitation ) 


2. RCI  Rehabilitation Council of India Act 1992

  • इसमें पेशेवर लोगों  को प्रशिक्षण  दिया जाता है।


3. PWD  Person with Disability act 1995

  • इसमें सात प्रकार की विकलांगताओं के बारे में बताया गया है।


4. National trust Act 1999

  • इसमें चार प्रकार की अन्य विकलांगता शामिल हुई।


5. Disability Right act 2016 

  •   इसमें 10 प्रकार की और विकलांगता शामिल हुई।  कुल मिलाकर विकलांगता शामिल हुई है 21 (7+4+10)


Various Schemes for CWSN in schools

1. IEDC Integrated education for disabled children

  • यह योजना 1974 में शुरू हुई।
  • इसमें  I to VIII तक विद्यार्थी पढ़ते हैं।
  • इसमें शिक्षक कुछ सुविधाओं के साथ दी जाती है पूर्ण सुविधाएं उपलब्ध नहीं होती।
  • मंत्रालय - Social justice and empowerment ministry 
  • यह योजना 1997 तक चली।
  • अब यह योजना SSA सर्व शिक्षा अभियान में है।


2. IEDSS Inclusive Education for Disabled Children at Secondary stage

  • यह योजना 2009 में शुरू हुई थी।
  • इसमें I to XII  तक विद्यार्थी पढ़ते हैं।
  • इसमें  शिक्षा की पूर्ण सामग्री / पूर्ण सुविधाओं के साथ विद्यार्थियों को पढ़ाया जाता है।
  • मंत्रालय - Social Justice and empowerment ministry 
  • यह योजना अभी भी चल रही है।
  • इस योजना के अंतर्गत 2020 में सभी स्कूल विकलांग फ्रेंडली friendly हो जाएंगे। 


 National Education policy for CWSN

  • यह 10 फरवरी  2006 से लागू हुई।
  • इस योजना के अंतर्गत 4-5% शिक्षा में आरक्षण मिलता है। 
  • प्रत्येक वर्ष 3 दिसंबर को विश्व विकलांग दिवस मनाया जाता है।
  • 4 जनवरी को ब्रेल दिवस मनाया जाता है।
  • 2 अप्रैल को स्वाधीनता दिवस मनाया जाता है।
  • SSA सर्व शिक्षा अभियान में विद्यार्थी की उम्र 6 से 18 वर्ष  तक होती है। 
  • Helen Keller day June 27  को होता है।


समावेशी शिक्षा में प्रयोग होने वाली अवधारणाएं


1. संस्थान रहित शिक्षा  DE-Institutionalization

  • दिव्यांग बच्चों को स्पेशल स्कूल में ना भेजें। 


2. सामान्यीकरण Normalisation

  • दिव्यांग बच्चों को सामान्य बच्चों के साथ सामान्य स्कूल में पढ़ाया जाना चाहिए।


3. LRE Least Restrictive Environment

  • दिव्यांग बच्चों को पढ़ाते समय उसके मार्ग में आने वाली बाधाओं को न्यूनतम ( कम ) करना चाहिए । 


4. मुख्यधारा Main Stream 

  •  दिव्यांग बच्चे अपने आपको सामान्य बच्चे समझें। 


 महत्वपूर्ण तथ्य


 1. संग्रहित अधिगम   Embedded Learning

  •  निशक्त बच्चों के संदर्भ में तत्काल सहायता प्रदान करनी चाहिए। ( सूचना /  सहयोग / पढ़ाना)


  2. सहकारी अधिगम   Co-operative Learning

  •  जब बच्चा अपने  सहपाठियों के साथ मिलकर पड़ता है उसे सहकारी अधिगम कहा जाता है।


  3. सहपाठी अधिगम   Peer Tutoring

  • जिस अधिगम में  बुद्धिमान विद्यार्थी कम बुद्धिमान विद्यार्थी को पढ़ा कर अपने आप को गर्वित महसूस करता है ऐसे अधिगम को सहपाठी अधिगम कहा जाता है।
  • Genius student teach me genius student and feels proud.


 4. आकलन   Assessment

  •  क्षमता  Ability
  •  अक्षमता  Inability
  •  सीमाएं  Limitations


5. DPEP  District Primary Education Programme

  • By P V Narshima
  • यह प्रोग्राम 1994 में शुरू हुआ ।
  • यह प्रोग्राम  150 पिछड़े जिलों में S/C, S/T, Girls, CWSN की शिक्षा का प्रबंध करने के लिए बनाया गया था।

 6. क्षतियुक्तता  Impairment

  • जब शरीर के किसी हिस्से में जन्म से या जन्म के बाद विकृति आ जाती है जो केवल शारीरिक स्तर structural level पर होती है उसे क्षतियुक्तता का कहते हैं। 


 7. असमर्थता  Disability

  •  जब शरीर के किसी हिस्से में जन्म से या जन्म के बाद विकृति आ जाती है जो केवल क्रिया स्तर functional level पर होती है। क्षतियुक्तता के कारण जब शरीर के अंग की क्रिया प्रभावित हो तो उसे असमर्थता या डिसेबिलिटी कहते हैं।


 8. विकलांगता  Handicap

  • परिस्थितियों के कारण जब शरीर का कोई अंग कार्य करने में पूरी तरह अक्षम हो जबकि वह दूसरे क्षेत्र में Expert कार्य करने योग्य को उसे विकलांगता कहा जाता है। 


शैक्षिक दर्शन


शैक्षिक दर्शन | Educational philosophy | shiksha darshan
शैक्षिक दर्शन | Educational philosophy | shiksha darshan

दर्शन

ज्ञान के विज्ञान को दर्शन कहा जाता है। दर्शन विभिन्न विचारों की सामूहिक रचना को कहते हैं। दर्शन के अंतर्गत गहरा ज्ञान समाहित होता है। दर्शन सत्य की खोज में एक आयोजित प्रयत्न है। 

शैक्षिक दर्शन

दर्शन-शास्त्र की वह बातें जो शिक्षा लेने और देने के लिए उपयोगी हैं उन्हें शैक्षिक दर्शन कहते हैं। 

शैक्षिक दर्शन के चार वाद
  1. आदर्शवाद 
  2. प्रकृतिवाद 
  3. प्रयोजनवाद 
  4. यथार्थवाद 

आदर्शवाद ( IDEALISM )

  आदर्शवाद का पिता प्लेटो को माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि आदर्शवाद  के सिद्धांतों का विकास प्लेटो के विचारों के से उत्पन्न हुआ है  जैसे Theory of IDEOLOGY भी कहा जाता है। आदर्शवाद को सकारात्मक शिक्षा भी कहा जाता है। इसका जन्म भारत और यूनान( ग्रीक) में हुआ था।  
  • आदर्शवाद में माना जाता है कि : UNIVERSE ब्रह्मांड की रचना परमात्मा ने की है। 
  • यह आध्यात्मिक होते हैं आत्मा और उसकी बातों को मानते हैं।
  • Our soul is form of God, worship of God, only God is truth 
  • यह मूल्यों को मानते हैं। जैसे नैतिक मूल्य, चारित्रिक मूल्य, आदर्श मूल्य आदि। 
  • इसका आधार आत्मा है। इनके अनुसार आत्मा मन और विचारों को महत्व दिया जाता है। Give importance to the soul, mind and thoughts.
  • आदर्शवाद में शिक्षक केंद्रित शिक्षा होती है। इनके अनुसार आध्यात्मिक अध्यापक ही एक प्राकृतिक बच्चे को आध्यात्मिक व्यक्ति बना सकता है। इसमें शिक्षक को सर्वोपरि माना गया है। आदर्शवाद में सबसे आदर्श व्यक्ति शिक्षक  को माना गया है।
  • सबसे पहले भगवान सर्वोच्च फिर मनुष्य सर्वोच्च है। “ सत्यम  शिवम सुंदरम “ God is supreme then man is supreme.
  • आदर्शवाद में शिक्षा का उद्देश्य व्यक्तित्व का विकास करना है।

आदर्शवाद की कुछ शिक्षण विधियां ( पारंपरिक विधि ) : Lecture method, question answer method, demonstration method, story telling method,  book reading ( साहित्य पठन ), discussion, drama method. 
अनुशासन :
  • आदर्शवाद में अनुशासन  कड़ा होता था लेकिन बच्चों को punishment नहीं देते थे।
  • विद्यार्थियों को  रटने पर बल देते  हैं।
  • इनका मानना था कि  मनुष्य को सादा जीवन उच्च विचार  के साथ ही अपना जीवन व्यतीत करना चाहिए।
  • आदर्शवाद में मनुष्य को अपनी भौतिक आवश्यकताओं को त्यागने  की बात कही गई है।
  • इसी बात के कारण इनकी आलोचना होती है।

शिक्षा के लक्ष्य
  • आत्मबोध की प्राप्ति ( Self realisation ) 
  • यह जानना कि हमारी आत्मा और परमात्मा में क्या संबंध है।

कुछ आदर्शवादियों के नाम :  Aristotle सुकरात,  Plato प्लेटो,  frobel फ्रोबेल, Gandhiji गांधी जी,  Kant कांत, डिस्कार्टे,  अरविंद घोष,  Vivekanand विवेकानंद, टैगोर, Radha Krishna राधाकृष्ण, Comaneous, fichte, आदि।


प्रकृतिवाद ( NATURALISM ) 

प्रकृतिवाद का जन्म  आदर्शवाद के विरोध में हुआ था। यह आदर्शवाद के हर बात  को नकारते हैं इसलिए इनकी शिक्षा को नकारात्मक शिक्षा भी कहा जाता है।  यह परमात्मा, आत्मा, मन, विचार, मूल्यों को महत्व नहीं देते हैं। 
  • इसमें प्रकृति ही बालक की उत्तम शिक्षक है। अध्यापक का स्थान पर्दे के पीछे है।
  • इनकी शिक्षा बाल केंद्रित है।  शिक्षा में मनोविज्ञान के प्रयोग का श्रेय इन्हें ही जाता है।
  • इनके अनुसार अध्यापक का सबसे पहला कर्तव्य बालक को  समझना है। प्रकृतिवाद में माना जाता है कि हर बालक अलग है। अध्यापक को बालक के विकास में रुकावट नहीं बनना चाहिए। बालक को प्रकृति की गोद में अकेला छोड़ देना चाहिए। 
  • बालक जन्म से ही स्वतंत्र पैदा होता है लेकिन समाज उसे बेड़ियों में जकड़ लेता है। 
  • आलोचना का कारण :  एक अबोध बालक को अकेले कैसे स्वतंत्र छोड़ा जा सकता है। 
  • इसमें बालक के स्वभाविक या जन्मजात शक्तियों का विकास चाहते हैं। 

प्रकृतिवाद में अनुशासन  : - स्वयं अनुशासन ।  प्रकृतिवाद में बालक को अपना अनुशासन खुद बनाए रखना होता है।

शिक्षा विधि
  • प्रकृतिवाद की शिक्षा बाल केंद्रित होती है।
  • प्रकृतिवाद के शिक्षण विधियों के कुछ उदाहरण : Play Way method खेल विधि, करके सीखने की विधि, inductive deductive method आगमन-निगमन विधि …

  • स्व:स्फुर्तीआत्म क्रिया द्वारा शिक्षा ( Spontaneous self activity )
  • यह भौतिक जगत और पदार्थ को मानते हैं।
  • हमारी ज्ञानेंद्रियां ज्ञान के द्वार हैं।
  • five senses →  five gates of learning 
  • शिक्षा वह अच्छी है जो मनुष्य को संघर्षशील बनाती है।
प्रकृतिवाद में अपना योगदान देने वाले कुछ शिक्षा शास्त्रियों के नाम :  Aristotle अरस्तु,  Rabindranath Tagore रविंद्र नाथ टैगोर,  Gandhiji गांधीजी, waltair वॉल्टियर,  Rousseau रूसो,   comte कॉमटे, Humes होम्स,  Bacon बेकन,  Spencer स्पेंसर, Bernard Shaw बर्नार्ड शॉ,  Darwin डार्विन,   lamarck लैमार्क,  huxley हक्सले,  Butler बटलर,  Arvind Ghosh अरविंद घोष,  Thales थेल्स, आदि।


 प्रयोजनवाद ( PRAGMATISM )

यह सबसे नया वाद है। इसका जन्म U.S.A यूएसए में हुआ।  इसके जन्मदाता Charles Pierc और सहायक विलियम जेम्स William James थे। इसे चरम सीमा Climax पर ले जाने वाले जॉन डीवी John Dewey, विलियम किलपैट्रिक William Killpatric , डॉक्टर सिलचर Dr. Siltcher जो लंदन से थे। 

प्रयोजनवाद को अन्य नाम से भी जाना जाता है जो इस प्रकार है :  परिणामवाद, फलवाद, व्यवहारिकतावाद, उपयोगितावाद, परिवर्तनवाद, अनुभववाद, अर्थवाद, क्रियावाद, आदि।

प्रयोजनवादी दो बातों को महत्व देते हैं-
  1. समाज 
  2. उपयोगिता

  • शिक्षा वह उत्तम है या सच्ची शिक्षा वह है जो आधुनिक समाज के लिए उपयोगिता दे या उपयोगी हो।
  • प्रयोजनवाद के अंतर्गत भूत काल और भविष्य काल में विश्वास नहीं करते हैं।
  • यह मूल्यों और परमात्मा को मानते हैं यदि समाज को लाभ होता हो तो।
  • इनके अनुसार मूल्यों का निर्माण क्रिया के अंतर्गत होता है। कोई भी मूल्य यह सत्य अंतिम नहीं है। Not  final and permanent.
  • प्रयोजनवाद के अंतर्गत सामाजिक अनुशासन को बल दिया जाता है। जो सामूहिक परियोजना करने में  प्रयोग आता है।
  • कोई भी संस्था इतनी पुनीत नहीं है कि स्कूल पर सुधार ना कर सके।

प्रयोजनवाद की कुछ शिक्षण विधियां
  • PROJECT METHOD जो दैनिक जीवन से जुड़े हो SOCIAL PROJECT.
  • समस्या समाधान कर्ता Problem solver

यथार्थवाद ( REALISM )

अरस्तु को यथार्थवाद का पिता भी माना जाता है। यथार्थवाद में वस्तु  के वास्तविक रूप को ही असली माना जाता है। यथार्थवादी भी परमात्मा को नहीं मानते हैं। इनका मानना है कि ब्रह्मांड को मनुष्य द्वारा ही बनाया गया है। यह Researcher खोजकर्ता, Scientist  वैज्ञानिक, Mathematician गणितज्ञ, Technologist प्रौद्योगिकीविद, आदि होते हैं। यह मानव कल्याण के लिए प्रयोग खोज Research करते हैं। 

यथार्थवाद के कुछ शिक्षा शास्त्री के नाम :  अरस्तु, रेबलियास, बेकन, मिल्टन, वाइटहेड, लोके, रातके, कोमेनीयस, आदि यथार्थवादी यथार्थवाद के समर्थक हैं। 


MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget