What is Curriculum ? पाठ्यचर्या अर्थ, परिभाषा, कार्य

पाठ्यचर्या | Curriculum

पाठ्यचर्या उन सभी अधिगम अनुभव का सार होता है जो एक स्कूल द्वारा संगठित किया जाता है।  विद्यार्थी उसे स्कूल के चारदीवारी और बाहर भी अर्जित करता है।

कनिंघम - “पाठ्यचर्या एक कलाकार ( शिक्षक ) के हाथों में एक उपकरण है जिसके द्वारा वह अपने विचारों  के अनुसार अपने स्टूडियो ( स्कूल ) में अपनी सामग्री ( बालक ) को एक उचित रूप में ढालता है।”

What is Curriculum ? पाठ्यचर्या अर्थ, परिभाषा, कार्य
What is Curriculum ? पाठ्यचर्या अर्थ, परिभाषा, कार्य

पाठ्यचर्या के विभिन्न कारक
  • पाठ्यक्रम, syllabus, विषय वस्तु,  विषय सामग्री या पाठ्यवस्तु
  • पाठ्य सहगामी क्रिया  co-curricular activity
  • शिक्षण विधियां  teaching methods
  • शिक्षण व्यूह रचना
  • Teaching aids
  • शैक्षिक तकनीक  educational technology
  • मूल्यांकन Evaluation 

पाठ्यचर्या निर्माण के आधार
  •  मनोवैज्ञानिक आधार - इसके कारण पाठ्यचर्या बाल केंद्रित बनती है।
  •  ऐतिहासिक आधार
  •  समाजशास्त्रीय आधार
  •  सांस्कृतिक आधार
  •  वैज्ञानिक आधार
  •  दार्शनिक आधार

पाठ्यचर्या निर्माण के चरण
  •  आवश्यकता का निर्धारण
  •  उद्देश्य का निर्धारण
  •  अधिगम अनुभवों का निर्धारण
  •  मूल्यांकन ( पाठ्यचर्या का  ना की बालक का )

पाठ्यचर्या के विभिन्न प्रकार
    1. विषय केंद्रित पाठ्यचर्या
    2. बाल केंद्रित पाठ्यचर्या 
    3. एकीकृत पाठ्यचर्या
            NCF-2005 इसी पाठ्यचर्या की सिफारिश करता है। इसमें अध्यापक अपने विषय को पढ़ाते समय बालक के अन्य विषयों को जोड़कर या सहसंबंध बनाकर पढ़ाता है। इसमें शिक्षण के दो उपागम  उपयोग में लाए जाते हैं -
  •  अंतर शास्त्रीय ( विषय ) उपागम  Inter disciplinary approach
  •  बहु शास्त्रीय उपागम   Multidisciplinary approach
    • इसे विषयों की दीवारें तोड़ना भी कहा जाता है। या अपने विषय के परे शिक्षण करना भी कहा जाता है।
हर विषय का संबंध Correlation एक-दूसरे विषय से होता है। 

    4. सह संबंधित पाठ्यचर्या
            इस पाठ्यचर्या में एक ही विषय के  किसी-किसी टॉपिक को  उस कक्षा के कई अध्यापक अपने-अपने पीरियड में आपस में सहसंबंध बनाकर पढ़ाते हैं। 
Example -  history, drawing, music, language,  geography (  used in Chapter our freedom movement )

    5. व्यापक क्षेत्र पाठ्यचर्या  Broadfield Curriculum 
            एक जैसी प्रकृति के विषयों को एक ही विषय के अंदर डालकर पढ़ाया जाता है। 
उदाहरण - History, political science, geography >>>>>>>>>>> social science

    6. प्रच्छन्न पाठ्यचर्या  Hidden Curriculum
            बालक अपने स्कूल के वातावरण में अपने अध्यापकों के व्यवहारों, साथियों के व्यवहारों तथा स्कूल के दैनिक कार्यक्रमों  के संपर्क से अनेक प्रकार के मूल्य जैसे कि नैतिक मूल्य, सांस्कृतिक मूल्य और सामाजिक मूल्य स्वयं ग्रहण करते रहते हैं। प्रच्छन्न  के अन्य नाम -  गुप्त पाठ्यचर्या, अव्यक्त पाठ्यचर्या, Implicit Curriculum, Covert Curriculum etc.. 

    7. Core Curriculum
            इसका जन्म यूएसए में हुआ। भारत में दसवीं तक कोर करिकुलम  Core Curriculum  है।  यह पाठ्यचर्या लचीला नहीं होता इसमें लगभग सभी विषय हर बालक को पढ़ने अनिवार्य है।
 उद्देश -  बालकों में दैनिक जीवन कौशल विकसित करना।

    8. गतिविधि /  अनुभव केंद्रित पाठ्यचर्या 
            इसके जनक जॉन डीवी John Dewey है। भारत में यह बेसिक शिक्षा के नाम से जाना जाता है। बेसिक शिक्षा के अंतर्गत Craft Centred Education  आती है।

    9. अग्रिम पंक्ति पाठ्यचर्या  Frontline curriculum 
            इस पाठ्यचर्या में शैक्षिक तकनीकी के द्वारा अधिकतर शिक्षण किया जाता है। इस में अध्यापक की भूमिका सहअध्येता co learner वाली होती है।

    10. लंबवत पाठ्यचर्या
            विषय वस्तु के सरल से जटिल के क्रम में पूरे अध्ययन कार्यक्रम के अंतर्गत Lesson wise तथा class wise  पढ़ाया जाता है। इस पाठ्यचर्या में पूर्ववर्ती पाठ का अधिगम अनुवर्ती पाठ के लिए तथा पूर्ववर्ती कक्षा का अधिगम अनुवर्ती कक्षा के लिए पूर्व ज्ञान बनता चला जाता है।

    11. क्षेतिजीय पाठ्यचर्या   Horizontal curriculum
            यह पाठ्यचर्या दसवीं के बाद लगाई जाती है। इसमें एक ही कक्षा के अलग-अलग विषयों  की एक समान पाठ्यचर्या बनाई जाती है।

क्षेतिजीय पाठ्यचर्या   Horizontal curriculum
क्षेतिजीय पाठ्यचर्या   Horizontal curriculum

पाठ्यचर्या संगठन

            किस विषय वस्तु को किस मात्रा में किस कठिनाई स्तर तक किस कक्षा की पाठ्यपुस्तक में प्रस्तुत किया जाए इसे पाठ्यचर्या संगठन कहा जाता है।

विधियां
    प्रकरण  विधि   Tropical method 
            प्रकरण विधि के अनुसार किसी पूरे टॉपिक को ही केवल एक ही कक्षा के पाठ्यपुस्तक के एक ही पाठ में डालकर पढ़ाया जाता है। उदाहरण -  आठवीं कक्षा का ग्राम पंचायत अध्याय

    चक्रीय विधि वर्तुल  विधि   Spiral method
            इस विधि में एक ही विषय वस्तु को अंश में विभाजित करके कई शैक्षिक कार्यों के अंतर्गत शिक्षण दिया जाता है। उदाहरण - Chapter our health in class 4th 7th and 10th



0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post