What is Play Way System | खेल शिक्षण पद्धति

खेल शिक्षण पद्धति | Play Way System

What is Play Way System | खेल शिक्षण पद्धति
What is Play Way System | खेल शिक्षण पद्धति


Kindergarten Method

  • Froebel इनका जन्म  1782 में Germany  में हुआ।
  • बच्चों का बगीचा, बाल उद्यान
  • Teacher - माली
  • Child बच्चा - कोमल पौधा
  • यह आदर्शवादी और आध्यात्मिक शिक्षाशास्त्री  है। यह दुनिया के पहले व्यक्ति है जिसने शिक्षा का आधार खेल को बनाया।
  • यह 3 से 7 वर्ष के बच्चों के लिए पूर्व प्राथमिक शिक्षा है।

सिद्धांत

1. एकता का सिद्धांत 
            हर जीव एक ही परमात्मा ने बनाया है और अंत में एक ही परमात्मा के पास जा रहे हैं। 

2. विकास का सिद्धांत
            हम सबका विकास अंदर से बाहर की ओर होता है।

3. खेल के द्वारा शिक्षा का सिद्धांत
            हर बालक खेल-खेल में ही सीखता है। खेल हर बालक की मूल प्रवृत्ति है।

4. करके सीखने का सिद्धांत
            इसे आत्म क्रिया का सिद्धांत भी कहते हैं। इसमें बालक  कैसी कार्य को खुद कर कर सीखता है।

5. सामाजिकरण का सिद्धांत
            इसमें बच्चा सामूहिक क्रिया और सामूहिक खेलों से ज्यादा सीखता है।

System

1. Songs

  • Play songs
  • Books - mother plays and nursery songs. There are 50 songs.
  • खेल आध्यात्मिक  क्रिया है।

2. Gesture

  • Action गति, हाव-भाव
  • गीतों को हाव-भाव से गाने से शारीरिक और मानसिक विकास होता है।

3. Construction रचना

  • व्यवसाय, Creative work करेंगे
  • No need of Books
  • ज्ञानेंद्रियों का विकास होता है।
  • 7 types of gift teaching aid, Main - cylindrical, cube shapes, Sphere, etc..
  • छोटे बच्चों को महिलाएं ही पढ़ा सकती है।
  • Pre-primary महिलाएं पढ़ाती हैं। 
  • माताएं आदर्श शिक्षिकाएं होती है।
  • परिवार द्वारा दी गई अनौपचारिक शिक्षा अधिक प्रभावी और  प्राकृतिक होती है। (मनोविज्ञान पर आधारित शिक्षा होती है।)

Montessori method

  • Maria Montessori MD Doctor ( Italy )
  • मंदबुद्धि का कारण पांच ज्ञानेंद्रियां हैं। 
  • School name - Children's House 
  • यह प्रकृतिवादी, प्रायोगिक शिक्षा शास्त्री है।

सिद्धांत

1. विकास का सिद्धांत
2. स्वतंत्रता का सिद्धांत

            बच्चे को पूर्ण स्वतंत्रता देनी चाहिए
3. व्यक्तिगतता का सिद्धांत
            खेल व्यक्तिगत होता है खेल शारीरिक ना होकर मानसिक हो ।
4. स्वत: शिक्षा का सिद्धांत / Auto Education / Self Education
5. Learning by Doing
6. Principle of Sensory Training कर्म इंद्रियों का प्रशिक्षण
7. सामाजिक प्रशिक्षण का सिद्धांत
            कमरे की सफाई करना, अपनी सफाई करना, कपड़ों की सफाई करना,  बर्तनों की सफाई करना,  बिस्तर लगाना आदि.
8. सामान्य बच्चों के लिए 3R’s  की शिक्षा होती है। Without books 
            इसमें पढ़ने से पहले लिखना सिखाते थे।
            3R’s ( Respect, Responsibility, Resourcefulness) सीखने के लिए प्रबोधक उपकरण

खेल ही बच्चों का कार्य है। बालक को स्वयं ही ज्ञान प्राप्त करने का अवसर दिया जाना चाहिए।

            शिक्षक को दखल नहीं  देना चाहिए।
            गिजुभाई बधेका गुजरात के बच्चों  को मोंटेसरी पद्धति से पढ़ाते थे। इनके द्वारा  एक किताब भी लिखी गई जिसका नाम है दिवास्वप्न


गांधीजी की बुनियादी शिक्षा

यह आदर्शवादी ज्यादा माने गए हैं लेकिन इन्हें प्रकृतिवादी और प्रयोजनवादी भी माना गया है।

  • आदर्शवादी Idealism - विद्यालय में नैतिक शिक्षा देने के कारण इन्हें आदर्शवादी माना जाता है।
    Due to Truth and Nonviolence
  • प्रकृतिवादी - बाल केंद्रित शिक्षा को बढ़ावा देने व पढ़ाने के कारण इन्हें प्रकृतिवादी माना जाता है।
  • Due to Child Centred Education
  • प्रयोजनवादी - Due to Experimental Education like craft, project  etc...
  • इसमें 7 से 14 वर्ष के बच्चों को शिक्षा दी जाती है।

विशेषताएं

  • यह एक हस्तशिल्प प्रधान शिक्षा है।
  • इस शिक्षा में बच्चों को आत्मनिर्भरता पर जोर दिया जाता है।
  • शिक्षा मातृभाषा में दी जाती है। No rule of English language.
  • इसमें श्रम का महत्व बताया जाता है। 
  • समन्वय पर जोर दिया जाता है- सैद्धांतिक विचार, Education and Self Sufficiency, School and Community
  • विषय - मातृभाषा, Social Science, General Science, Maths, Physical Science, Meditation.
  • Education should be Insurance against Child Unemployment.
  • 3H’s - The 3H Approach - the Head (vision), Heart (passion) and Hands (action)
  • सर्वोदय दर्शन पर जोर दिया जाता है।


वर्धा योजना

Chairman Zakir Hussain 
            1939 मे बीजी खेर समिति बनाई गई। यह समिति बुनियादी शिक्षा में परिवर्तन हेतु बनाई गई। 1944 में सार्जेंट कमीशन ने रिपोर्ट दी कि बुनियादी शिक्षा अच्छी है लेकिन यह कहना गलत है कि इसके द्वारा स्वावलंबन, आत्मनिर्भरता आ सकेगी। यह पुस्तकों  के उपयोग के विरुद्ध थे।
अध्यापक और छात्र दोनों की सृजनशीलता विकास में बाधक होती है। 

ईश्वर सत्य है और सत्य ही ईश्वर है।

शिक्षा सहायक सामग्री 

लाभ

  • सहायक सामग्री अध्यापक की संपूरक Supplementary होती है ना की स्थानापन्न Substitute
  • इनसे बालक का अधिगम अधिक प्रभावी बनता है।
  • सहायक सामग्री से बच्चा शिक्षा में अधिक रूचि लेता है।
  • बच्चा सीखने के लिए अधिक प्रेरित होता है।
  • बच्चे को अधिक पुनर्बलन भी मिलता है।
  • बच्चे का अधिगम अधिक स्थाई बनता है।
  • शिक्षण बाल केंद्रित बनता है।

Types

  1. Audio Aid श्रव्य सामग्री - Radio, tape, linguaphone.
  2. Visual Aid दृश्य सामग्री - chart, globe, map, model etc….
  3. Audio Visual Aid दृश्य श्रव्य सामग्री - Television, computer, multimedia, mobile  etc... 
  4. Projected Aid - बिजली से चलने वाले उपकरण
  5. Non Projected Aid - बिना बिजली के चलने वाले उपकरण

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post